koi bhi ladki psand nhi aati!!!

Just another weblog

806 Posts

46 comments

सुभाष बुड़ावन वाला


Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.

Sort by:

हास्य! सभाष बुड़ावन वाला.

Posted On: 21 Dec, 2015  
1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

Others social issues हास्य व्यंग में

0 Comment

Page 2 of 81«12345»102030...Last »

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

के द्वारा: सुभाष बुड़ावन वाला सुभाष बुड़ावन वाला

के द्वारा: सुभाष बुड़ावन वाला सुभाष बुड़ावन वाला

के द्वारा: shakuntlamishra shakuntlamishra

के द्वारा: सुभाष बुड़ावन वाला सुभाष बुड़ावन वाला

के द्वारा: डॉ0 कुमारेन्द्र सिंह सेंगर डॉ0 कुमारेन्द्र सिंह सेंगर

के द्वारा: सुभाष बुड़ावन वाला सुभाष बुड़ावन वाला

thanks1मुझे भी आज हिंदी बोलने का शौक हुआ, घर से निकला और एक ऑटो वाले से पूछा, "त्री चक्रीय चालक पूरे बोकारो नगर के परिभ्रमण में कितनी मुद्रायें व्यय होंगी"? ऑटो वाले ने कहा, "अबे हिंदी में बोल न" मैंने कहा, "श्रीमान मै हिंदी में ही वार्तालाप कर रहा हूँ।" ऑटो वाले ने कहा, "मोदी जी पागल करके ही मानेंगे।" चलो बैठो कहाँ चलोगे? मैंने कहा, "परिसदन चलो।" ऑटो वाला फिर चकराया! "अब ये परिसदन क्या है? बगल वाले श्रीमान ने कहा, "अरे सर्किट हाउस जाएगा।" ऑटो वाले ने सर खुजाया बोला, "बैठिये प्रभु।।" रास्ते में मैंने पूछा, "इस नगर में कितने छवि गृह हैं??" ऑटो वाले ने कहा, "छवि गृह मतलब??" मैंने कहा, "चलचित्र मंदिर।" उसने कहा, "यहाँ बहुत मंदिर हैं राम मंदिर, हनुमान मंदिर, जगरनाथ मंदिर, शिव मंदिर।।" मैंने कहा, "मै तो चलचित्र मंदिर की बात कर रहा हूँ जिसमें नायक तथा नायिका प्रेमालाप करते हैं।।" ऑटो वाला फिर चकराया, "ये चलचित्र मंदिर क्या होता है??" यही सोचते सोचते उसने सामने वाली गाडी में टक्कर मार दी। ऑटो का अगला चक्का टेढ़ा हो गया। मैंने कहा, "त्री चक्रीय चालक तुम्हारा अग्र चक्र तो वक्र हो गया।" ऑटो वाले ने मुझे घूर कर देखा और कहा, "उतर जल्दी उतर! चल भाग यहाँ से।" तब से यही सोच रहा हूँ अब और हिंदी बोलूं या नहीं?--सुभाष बुड़ावन वाला,18,शांतीनाथ कार्नर,खाचरौद[म्प]

के द्वारा: सुभाष बुड़ावन वाला सुभाष बुड़ावन वाला

के द्वारा: सुभाष बुड़ावन वाला सुभाष बुड़ावन वाला

के द्वारा:

के द्वारा: सुभाष बुड़ावन वाला सुभाष बुड़ावन वाला

के द्वारा: सुभाष बुड़ावन वाला सुभाष बुड़ावन वाला

के द्वारा: सुभाष बुड़ावन वाला सुभाष बुड़ावन वाला

thanks! मेल का जादू एक आदमी ने होटल के रूम में कम्प्यूटर देखा तो सोचा कि चलो बीवी को मेल कर दूं. जल्दी में उसने मेल गलत एड्रेस पर भेज दी. जिस औरत को वह मेल मिली उसके शौहर का दो दिन पहले ही इंतकाल हुआ था. मेल पढ़ते ही औरत बेहोश हो गई क्यूंकि उसमें लिखा था कि “बेगम मैं खैरियत से पहुंच गया हूं. यहां नेट मौजूद है. जगह छोटी पर शानदार है. ठंडी-ठंडी हवा बह रही है. जन्नत के मजे आ रहे हैं. मैंने जो सफेद कपड़े पहने थे वह अब तक साफ हैं. मैं कल ही तुम्हें भी बुलवा लूंगा.” ********************** आजकल की लड़कियों का प्यार लड़की अपने कमरे में बैठकर जोर-जोर से रो रही थी. मां ने ये देखा तो उसके पास गई और बोली: क्या हुआ बेटी क्यूं रो रही हो? मुझे एक दोस्त समझ और बता क्या हुआ? बेटी रोते हुए बोली: क्या बताऊं यार, अपने वाले से मिलने गई थी तेरे वाले ने देख लिया और बहुत मारा. ********************** गर्लफ्रेंड के लिए गिफ्ट एक लड़का अपनी गर्लफ्रेंड के लिए वैलेंटाइन डे पर चूड़ियां लेके गया. लड़की: खुद ही पहना दो ना. लड़का: हे भगवान, अगर पहले पता होता कि तुम्हारा जवाब यह होगा तो कपड़े खरीद लाता. ********************** चन्दगुप्त मौर्या कौन टीचर: बच्चों चन्दगुप्त मौर्या कौन था. संता: सर मुझे लगता है गणपति बप्पा मौर्या के भाई होंगे..-सुभाष बुड़ावन वाला,18,शांतीनाथ कार्नर,खाचरौद[म्प]

के द्वारा: सुभाष बुड़ावन वाला सुभाष बुड़ावन वाला

के द्वारा: सुभाष बुड़ावन वाला सुभाष बुड़ावन वाला

thanks! मेल का जादू एक आदमी ने होटल के रूम में कम्प्यूटर देखा तो सोचा कि चलो बीवी को मेल कर दूं. जल्दी में उसने मेल गलत एड्रेस पर भेज दी. जिस औरत को वह मेल मिली उसके शौहर का दो दिन पहले ही इंतकाल हुआ था. मेल पढ़ते ही औरत बेहोश हो गई क्यूंकि उसमें लिखा था कि “बेगम मैं खैरियत से पहुंच गया हूं. यहां नेट मौजूद है. जगह छोटी पर शानदार है. ठंडी-ठंडी हवा बह रही है. जन्नत के मजे आ रहे हैं. मैंने जो सफेद कपड़े पहने थे वह अब तक साफ हैं. मैं कल ही तुम्हें भी बुलवा लूंगा.” ********************** आजकल की लड़कियों का प्यार लड़की अपने कमरे में बैठकर जोर-जोर से रो रही थी. मां ने ये देखा तो उसके पास गई और बोली: क्या हुआ बेटी क्यूं रो रही हो? मुझे एक दोस्त समझ और बता क्या हुआ? बेटी रोते हुए बोली: क्या बताऊं यार, अपने वाले से मिलने गई थी तेरे वाले ने देख लिया और बहुत मारा. ********************** गर्लफ्रेंड के लिए गिफ्ट एक लड़का अपनी गर्लफ्रेंड के लिए वैलेंटाइन डे पर चूड़ियां लेके गया. लड़की: खुद ही पहना दो ना. लड़का: हे भगवान, अगर पहले पता होता कि तुम्हारा जवाब यह होगा तो कपड़े खरीद लाता. ********************** चन्दगुप्त मौर्या कौन टीचर: बच्चों चन्दगुप्त मौर्या कौन था. संता: सर मुझे लगता है गणपति बप्पा मौर्या के भाई होंगे..-सुभाष बुड़ावन वाला,18,शांतीनाथ कार्नर,खाचरौद[म्प]

के द्वारा: सुभाष बुड़ावन वाला सुभाष बुड़ावन वाला




latest from jagran